इस स्याह से सन्नाटे को समेटे,
साहिलों मे सहमे से वो सितारे,
आज भी दो अश्क़ रो लिया करते हैं.

Advertisements